Sunday, December 12, 2010

गुरु मंत्र से सिद्धि

कालिदास विश्व के विख्यात कवि थे, परन्तु प्रारंभ में ये सर्वथा मूर्ख, निरक्षर व अबोध व्यक्ति थे, जब पत्नी ने महल से धक्का देकर उन्हें  बाहर निकल दिया तो संयोगवश मार्ग में ही विख्यात योगी कालीचरण मिल गए, उन्होंने साधना के बल पर सब कुछ जान लिया, बोले : "तुम निरक्षर हो, अतः साधना तो कर नहीं सकते पर मैं तुम्हें अपना शिष्य बनाकर 'गुरु मंत्र' दे देता हूँ और यदि निरंतर गुरु सेवा और गुरु मंत्र जप करोगे तो निश्चय ही तुम जीवन में वह सब कुछ पा सकोगे जो कि तुम्हारा अभीष्ट हैं."

युवक कालिदास ने गुरु की बात अपने हृदय में उतार ली और निरंतर गुरु मंत्र का जप करने लगा,वह सोते, बैठते, उठाते, जागते, खाते, पीते गुरु का ही चिंतन करता, गुरु उसके इष्ट और भगवान बन गए, सामने कलि की मूर्ति में भी उसे गुरु के दर्शन होते, गुरु को उदास देखकर वह झुंझला जाता, गुरु को प्रसन्न मुद्रा में देखकर वह खिल उठता, चौबीस घंटे वह गुरु के ध्यान में ही डूबा रहता और इसी प्रयत्न में रहता कि गुरु उसे आज्ञा दे और वह प्राणों की बजी लगाकर भी उसे पूरा करे, वह हर क्षण ऐसे मौके की तलाश में रहता, जब उसे गुरु सेवा करने का अवसर प्राप्त हो सके.

इस प्रकार कालिदास ने अपने आपको पूरी तरह से गुरुमय बना दिया था. 90 दिन के बाद स्वामी कालीचरण ने उसकी सेवा से प्रसन्न होकर "शाम्भवी दीक्षा" दी और ऐसा होते ही उसके अन्तर का ज्ञान दीप प्रदीप्त हो उठा, कंठ से वाग्देवी प्रगट हुयी और स्वतः काव्य उच्चरित होने लगा.

आगे चलकर बिना अन्य कोई साधना किये केवल गुरु साधना और शाम्भवी दीक्षा के बल पर कालिदास अद्वितीय कवि बन कुमार संभव,मेघदूत और ऋतुसंहार जैसे काव्य ग्रंथों की रचना कर विश्व विख्यात बन सकें.

11 comments:

  1. ashok4:21 pm

    dear sir, i am very much enthused to go thru your writtings. as suggested i desire to do so many things, pl guide me as guru. ashok k kamble

    ReplyDelete
    Replies
    1. Visit here:
      http://www.easy-mantra.com/guru-dev

      Delete
  2. Anonymous3:55 pm

    nothing is bigger than a guru mantra

    ReplyDelete
  3. vaastav main hi guru mantra sarvopari hai

    ReplyDelete
  4. Guru mantra hi sarwasrestha mantra hai. Yah sabhi kamnawo ko purn kar deta hai.
    Guru mantra ke dwara hi brahma se sachatkar hota hai.

    ReplyDelete
  5. Anonymous7:44 pm

    yup ma gurudev is the best and is ma everything

    ReplyDelete
  6. guru ji me aapki saran me aana chata hoon

    ReplyDelete
    Replies
    1. visit : http://www.easy-mantra.com/guru-dev

      Delete
  7. guru krupahi kevalam.

    ReplyDelete
  8. shisy ko guru se kuch nahi chupana chahiye
    om param tatvay narayanay gurubhiyyoh namh

    ReplyDelete
  9. guru mantra ko apni atma me loopta kar na hi guru sadhna purna ho na he is me guru mantra fir jivha pe nahi atma ke dwara chal ta he agar dhyan me mahsus hota he ki man me gur mantra chal raha he to wo galat disha he sahi disha atma me dhyan ki awastha me andar 1 prakash bindu ke sath gunjaye maan ho ta rahta he ..jai guru dev

    ReplyDelete