Wednesday, January 18, 2012

गुरू

धरती सब कागद करूं, लेखनी सब बनराय।
साह सुमुंद्र की मसि करूं, गुरू गुण लिखा न जाय़।।

No comments:

Post a Comment